घरेलू इलाज: होम्योपैथी से आपके वजन को घटाने के साथ पाचन क्रिया को भी बनाती है मजबूत

मोटापे की बढ़ती दर ने एक पूरी पीढ़ी के स्वास्थ्य के अस्तित्व के लिए जोखिम खड़ा कर दिया है. आज के समय में बच्चों और युवाओं में बढ़ती मोटापे की समस्या विकसित और साथ ही विकासशील देशों में ऊंचे स्तर पर पहुंच गई हैं.

मोटापा वो स्थिति होती है, जब शरीर में अत्यधिक वसा एकत्रित हो जाती है जिसकी वजह से सेहत पर हानिकारक प्रभाव पडने शुरू हो जाते हैं.मोटापे के प्रमुख कारणों में शामिल हैं- अत्याधिक कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों का सेवन, शारीरिक गतिविधियों का अभाव और कुछ आनुवांशिक कारण.

• अधिक कैलोरी और वसा का सेवन और डब्बा बंद शीतल पेय के जरिए अत्यधिक शर्करा का सेवन, शारीरिक गतिविधि में लगातार गिरावट मोटापे की बढ़ती दर में प्रमुख भूमिका निभा रहा है.  माता-पिता के व्यस्त जीवन के चलते उचित पोषण के बारे में अपने बच्चों को शिक्षित करने के लिए पर्याप्त समय का अभाव.

यह प्राकृतिक होम्योपैथिक दवा वजन घटाने वाली दवाओं की सूची में सबसे ऊपर है. यह दवा मुख्यतः पेट में अधिक वसा होने पर चयापचय गति को बढ़ाकर मोटापे को कम करता है.होम्योपैथिक दवा में मोटापे की एक महत्वपूर्ण दवा नट्रम मूर है जो वजन कम करने के लिए सहायक होती हैं. शरीर के अन्य हिस्सों की तुलना में जांघों और नितंबों में वसा अधिक होने पर ये दवा की दी जाती है. यदि लंबे समय तक लगातार तनाव या अवसाद के कारण व्यक्ति का वजन अधिक हो गया हो तो ये दवा अद्भुत परिणाम देती है.

ऐसे व्यक्ति जिनका मोटापा बेढंगा है जैसे- पेट, नितम्भ आदि पर वसा एकत्र होकर मोटापा हो तो व्यक्ति को यह दवा अवश्य देनी चाहिए।जिन रोगियों को लाइकोपोडियम की दवा दी जाती है उन्हें पेट फूलने और कब्ज जैसी गैस्ट्रिक परेशानियों के साथ-साथ मोटापे से आराम मिलता हैं.

मोटापे को दूर करने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है स्वस्थ जीवन शैली विकल्पों को बढ़ावा देना. पोषक तत्वों को अपने आहार में शामिल करें. फिटनेस पर ध्यान देना. इसके लिए सरल व्यायाम करें. कसरत करें या फिर टहलें. मोटापे के परिणामों के बारे में जागरूकता बढ़ाना. • मनोवैज्ञानिक परामर्श प्रदान करना. • स्वस्थ खाने की आदतों के बारे में लगातार शिक्षित करना.

आहार और जीवन शैली में परिवर्तन करने से मोटापा कम होता हैं. • पॉलिश चावल और आलू जैसे उच्च कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पर्दार्थो से बचें. • तला हुआ भोजन, प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ, शुद्ध मक्खन, पनीर, फुल क्रीम दूध, क्रीम, चॉकलेट जैसे खाद्य पदार्थ इत्यादि से बचें.

• फल, सलाद और सब्जियों का सेवन बढ़ाएं. • टकसाल चाय या कुछ साधारण मसालों के साथ हरी टकसाल का पेस्ट बनाएं और भोजन के दौरान खाएं. • गर्म पानी के साथ रोजाना शहद का एक बड़ा चमचा लें. यह मोटापे के लिए एक उत्कृष्ट घरेलू उपाय है. • हल्के गर्म पानी में एक चम्मच शहद और आधा नींबू का रस मिलाएं. नियमित अंतराल पर दिन में कई बार लें.

Sharing is caring!

Leave a Comment