गुरु गोविंद सिंह की सिखाई ये बातें दिला देंगी आपको सफलता

गुरु गोविंद सिंहजी पिता गुरु तेग बहादुर की शहादत की वजह से 9 साल की उम्र में ही 10वें सिख गुरु बन गए थे। उन्होंने गुरु ग्रंथ साहिब को अपना उत्तराधिकारी और सिखों का निर्देशक घोषित किया था। जानते हैं गुरु गोविंद सिंह की 9 ऐसी बातें जिन्हें जानकर आपकी जिंदगी बेहतर हो सकती है।गुरु गोविंद सिंह जी के 352वें प्रकाशोत्सव का आगाज 11 जनवरी से होगा। प्रकाशोत्सव को लेकर गुरुजी के जन्मस्थान, तख्त साहिब को आकर्षक रूप दिया गया है। सतरंगी लाइट से जगमग करता गुरुघर श्रद्धालुओं को लुभा रहा है। पटना साहिब में मेले सा नजारा है। अभी से ही श्रद्धालु पटना साहिब की रौनक देखने पहुंचने लगे हैं। वहीं बाहर से श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। .

1. धरम दी किरत करनी: अपनी जीविका ईमानदारी पूर्वक काम करते हुए चलाएं।2. दसवंड देना: अपनी कमाई का दसवां हिस्सा दान में दें।3. कम करन विच दरीदार नहीं करना: काम में खूब मेहनत करें और काम को लेकर कोताही न बरतें।4. धन, जवानी, तै कुल जात दा अभिमान नै करना: जवानी, जाति और कुल धर्म को लेकर घमंड न करें।5. दुश्मन नाल साम, दाम, भेद, आदिक उपाय वर्तने अते उपरांत युद्ध करना: दुश्मन से भिड़ने पर पहले साम, दाम, दंड और भेद का सहारा लें, और अंत में ही आमने-सामने के युद्ध में पड़ें।6. किसी दि निंदा, चुगली, अतै इर्खा नै करना: किसी की चुगली व निंदा से बचें और किसी से ईर्ष्या करने के बजाय मेहनत करें।

7. बचन करकै पालना: अपने सारे वादों पर खरा उतरने की कोशिश करते रहना।8. शस्त्र विद्या अतै घोड़े दी सवारी दा अभ्यास करना: खुद को सुरक्षित रखने के लिए शारीरिक सौष्ठव, हथियार चलाने और घुड़सवारी का अभ्यास जरूर करें। आज के संदर्भ में नियमित व्यायाम जरूर करें।9. जगत-जूठ तंबाकू बिखिया दी तियाग करना: किसी भी तरह के नशे और तंबाकू का सेवन न करें।

Sharing is caring!

Leave a Comment