फांसी देने से पहले जल्लाद कान में बोलता है ये शब्द

फांसी देने से पहले जल्लाद कान में बोलता है ये शब्द

बड़ी ही सजा मिलती है। फांसी की सजा या फिर उम्र कैद की सजा, लेकिन उम्र कैद से बड़ी सजा फांसी की होती है, क्योंकि जब फांसी का नाम अपराधी सुनता है, तो वह स्वयं भी थर-थर कांपने लगता है। अपराधी जब अपराध करता है, तो उसे इस बारे में नहीं पता होता है कि उन्हें क्या सजा मिलेगी। आज हम आपको जब किसी मनुष्य को फांसी दी जाती है, तो जल्लाद उसके कान में…

Read More

नेहरू ने चीन को दिला दी UNSC में भारत की सीट? ये हैं तथ्य

नेहरू ने चीन को दिला दी UNSC में भारत की सीट? ये हैं तथ्य

संयुक्त राष्ट्र की 1267 समिति की बैठक में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के भारत के प्रयास को एक बार फिर चीन ने वीटो के माध्यम से विफल कर दिया. पुलवामा हमले के गुनहगार मसूद अजहर को बचाने के लिए चीन ने चौथी बार वीटो का इस्तेमाल किया. इसकी खबर आते ही लोकसभा चुनाव में व्यस्त देश की सियासत में एक बार फिर गड़े मुर्दे उखाड़े जाने लगे हैं. बीजेपी…

Read More

पुलवामा मे CRPF के जवानों पर हमला, 42 जवान शहीद, uri हमले से भी बड़ा हमला

पुलवामा मे CRPF के जवानों पर हमला, 42 जवान शहीद, uri हमले से भी बड़ा हमला

एक बार फिर आतंकवादी अपने नापाक मंसूबो में कामयाब होते नज़र आए. जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में उरी से भी बड़ा आतंकी हमला हुआ है। हमले में 42 से ज्यादा जवानों के शहीद होने की आशंका है। हालांकि अभी तक पुष्टि नहीं हुई है। वहीं कई जवान गंभीर रूप से घायल हुए हैं। सीआरपीएफ के जवानों पर हुए हमले ने पूरे देश को हिला कर रख दिया है. हमले की जिम्मेदारी जिस आतंकी संगठन ने ली है, उसका…

Read More

अगर आपका पढ़ाई में मन नहीं लगता है तो चाणक्य की इन नीतियों को पढ़ लें

अगर आपका पढ़ाई में मन नहीं लगता है तो चाणक्य की इन नीतियों को पढ़ लें

शिक्षा के महत्व को समझाते हुए आचार्य चाणक्य ने अपनी नीतियों में इसका खूब अच्छे से वर्णन किया है।आचार्य चाणक्य ने अपने श्लोक के माध्यम से कहा है कि जो विद्या को पूजता है यानी शिक्षा के महत्व को समझकर उसे ग्रहण करता है उसकी विद्वता को दुनिया सम्मान देती है और प्रशंसा अपने आप मिलती है। विद्वान् प्रशस्यते लोके विद्वान् गच्छति गौरवम्।विद्या लभते सर्वं विद्या सर्वत्र पूज्यते।आचार्य चाणक्य ने अपने श्लोक के माध्यम से…

Read More

नया साल अच्‍छा बीते इसके लिए सूटकेस लेकर घूमते हैं यहां पर लोग, जानें और बहुत कुछ

नया साल अच्‍छा बीते इसके लिए सूटकेस लेकर घूमते हैं यहां पर लोग, जानें और बहुत कुछ

नव वर्ष के आगमन पर कई तरह की चीजें प्रचलित हैं। कहीं अपने पालतू जानवर से बात की जाती है तो कहीं बुराई को लेकर पुतले जलाए जाते हैं। कहीं ऐसा भी है जहां पानी के साथ पाउडर एक दूसरे पर डाला जाता है। इसी तरह की कई दिलचस्‍प बातों के साथ हम दुनियाभर में फैली कई परंपराओं की जानकारी दे रहे हैं।बेल्जियम में इस दिन अपने पालतू जानवरों के प्रति प्‍यार जताया जाता है।बोल्विया…

Read More

इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी जिसने पूरी दुनिया से यह बात छिपाकर रखी

इतिहास की सबसे खूबसूरत रानी जिसने पूरी दुनिया से यह बात छिपाकर रखी

दुनिया में कई सारी प्रेम कहांनिया है जिनकी मिसाले आज भी हमारे हिंदुस्तान में दी जाती है। जैसे रोमियो जूलेट, लैला मजनू, शाहजहां मोमताज और ठीक उसी तरह से एक प्रेम कहानी बाजीराव और मस्तानी की थी। जिनकी प्रेम कहानी अमर कहानियों में से एक है जिस पर कुछ साल पहले एक फिल्म भी आयी थी। बाजीराव मराठा के दूसरे पेशवा थे जिन्होंने अपने जीवन काल में एक भी युद्ध नही हारा लेकीन वो मस्तानी…

Read More

मुस्लिम लोग सिर्फ दाढ़ी रखते हैं मुछ नहीं,वजह जानकर आप भी रह जायेंगे हैरान !

मुस्लिम लोग सिर्फ दाढ़ी रखते हैं मुछ नहीं,वजह जानकर आप भी रह जायेंगे हैरान !

हर धर्म को पहचानने के लिए हम सब ने अपने दिमाग में कई तस्वीरें बना रखी हैं। अगर किसी व्यक्ति ने पगड़ी पहन रखी हैं तो वह पंजाबी ही होगा या किसी ने अगर धोती पहनी हैं तो वह हिन्दू होगा या फिर किसी व्यक्ति ने अगर टोपी लगायी हैं और दाढ़ी रखी हैं तो वह मुसलमान ही होगा लेकिन यह सब हमारे दिमाग का सिर्फ एक मज़हबी फ़ितूर मात्र हैं। पर कभी आपने सोचा…

Read More

भारत के 3 ऐसे महान राजा जिन पर कायरो ने पीछे से वार किया

भारत के 3 ऐसे महान राजा जिन पर कायरो ने पीछे से वार किया

कहते हैं छाती पर वार करें वह मर्द होता है और जो पीठ पीछे से वार करें वह कायर होता है। जी हां आपने ठीक पढ़ा हम बात कर रहे हैं भारत के उन महान और पराक्रमी राजाओं कि जिनके पीठ पीछे से वार किया गया। जिनके सीने पर वार करते तो कायरों की मौत होती। उनको पता था उनका मुकाबला नहीं कर सकते इसलिए पीठ पीछे वार कर उनकी हत्या कर दी। अलाउद्दीन खिलजी…

Read More

रामायण के अनुसार इन 3 बातों को कभी ना भूलने वाला इंसान ही अंत में सफल होता है

रामायण के अनुसार इन 3 बातों को कभी ना भूलने वाला इंसान ही अंत में सफल होता है

रामायण कथा के अनुसार राजा बलि देवराज इन्द्र के पुत्र और अंगद का पिता था। देवराज इन्द्र ने बालि को एक हार दिया था और ब्रह्मा जी के वरदान के अनुसार जब भी बालि वह हार पहनकर अपने शत्रु के सामने जाएगा तो उसके शत्रु की आधी शक्ति क्षीण हो जाएगी। इस वरदान की वजह से बालि अजेय था, उसका वध करना लगभग असंभव था।जिस मनुष्य को अपनी मृत्यु का भय ना हो वह कुछ…

Read More

पंडित नेहरु नहीं, ‘बरकतुल्ला खान’ थे भारत के पहले प्रधानमंत्री!

पंडित नेहरु नहीं, ‘बरकतुल्ला खान’ थे भारत के पहले प्रधानमंत्री!

मप्र के भोपाल में 7 जुलाई 1854 को जन्में बरकतुल्ला का परिवार भोपाल रियासत का अहम हिस्सा था. कुछ लोगों का मानना है कि उनकी पैदाइश 1857 या 1858 में हुई.उन्होंने सुलेमानिया स्कूल से अरबी, फ़ारसी और अंग्रेजी की तालीम हासिल की.अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति के लीडर शेख जमालुद्दीन अफगानी से प्रभावित होकर उन्होंने सभी देशों के मुसलमानों को एक करने की ठानी. इसी दौरान मां-पिता का देहांत हो गया. सिर पर एक बहन की जिम्मेदारी थी,…

Read More
1 2 3 93