एक गलती की वजह से 12 वर्ष के लिए अलग हो गए थे कृष्ण और रुक्मिणी

एक गलती की वजह से 12 वर्ष के लिए अलग हो गए थे कृष्ण और रुक्मिणी

जो लोग द्वारका स्थित श्री कृष्ण के मंदिर गए हैं उन्हें यह अवश्य ज्ञात होगा कि द्वारकाधीश के मंदिर में उनके साथ उनकी पत्नी, उनकी अर्धांगिनी रुक्मिणी विराजित नहीं है। अवश्य ही ये सवाल आपके मस्तिष्क में आया भी होगा कि ऐसा क्यों? परंतु शायद आपने ज्यादा जानने की कोशिश भी ना की हो। खैर आज हम आपको एक ऐसी कथा सुनाने जा रहे हैं, जो स्वयं आपके इस सवाल का जवाब है। कथा के…

Read More

रामायण के अनुसार इन 3 बातों को कभी ना भूलने वाला इंसान ही अंत में सफल होता है

रामायण के अनुसार इन 3 बातों को कभी ना भूलने वाला इंसान ही अंत में सफल होता है

रामायण कथा के अनुसार राजा बलि देवराज इन्द्र के पुत्र और अंगद का पिता था। देवराज इन्द्र ने बालि को एक हार दिया था और ब्रह्मा जी के वरदान के अनुसार जब भी बालि वह हार पहनकर अपने शत्रु के सामने जाएगा तो उसके शत्रु की आधी शक्ति क्षीण हो जाएगी। इस वरदान की वजह से बालि अजेय था, उसका वध करना लगभग असंभव था।जिस मनुष्य को अपनी मृत्यु का भय ना हो वह कुछ…

Read More

अपने भाइयों के कारण ही विधवा हुई थी कौरव-पांडवों की इकलौती बहन ‘दुशाला’

अपने भाइयों के कारण ही विधवा हुई थी कौरव-पांडवों की इकलौती बहन ‘दुशाला’

जब भी महाभारत की बात होती है तो बुराई पर अच्छी की जीत के साथ ही पांडव, कौरव, द्रौपदी, श्रीकृष्ण और पात्रों की भी बात होती है. इनके बारे में अपने कई किस्से सुने होंगे. लेकिन क्या आपको पता है कि पांडवों की ही एक बहन थी, जिसका नाम था दुशाला. असल में दुशाला कौरवों की बहन थी, लेकिन चूकिं कौरव और पांडव भाई थे तो वो इनकी इकलौती बहन थी. बहुत से लोग दुशाला…

Read More

चाणक्य के अनुसार कभी ना करें इन 3 लोगों की मदद

चाणक्य के अनुसार कभी ना करें इन 3 लोगों की मदद

हमें बचपन से ही यह सिखाया जाता है कि हमें जरूरतमंदों की मदद करनी चाहिए। फिर वह मदद धन के रूप में हो या अपनी उपस्थिति दर्ज करवाकर की गई मदद, दोनों ही तरीके सही हैं। हमारे समाज में किसी की मदद करने को अच्छे संस्कार के रूप में दर्शाया जाता है।चंद्रगुप्त को महाराजा चंद्रगुप्त मौर्य बनाने वाले एवं प्राचीन भारत के महान अर्थशास्त्री आचार्य चाणक्य ने जीवन के कई उसूलों पर भी बात की…

Read More

खंडित मूर्तियां टूटे-फूटे बर्तन, बंद घड़ियां घर में नहीं रखनी चाहिए, इनकी वजह से लक्ष्मीजी की प्रसन्नता नहीं मिल पाती है

खंडित मूर्तियां टूटे-फूटे बर्तन, बंद घड़ियां घर में नहीं रखनी चाहिए, इनकी वजह से लक्ष्मीजी की प्रसन्नता नहीं मिल पाती है

7 नवंबर को देवी लक्ष्मी को मनाने का महापर्व दीपावली है। इस दिन देवी लक्ष्मी को मनाने के लिए विशेष पूजा की जाती है। मान्यता है कि जिन घरों में इस दिन सही तरीके से पूजा-पाठ कर लिया जाता है, वहां महालक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। कुछ चीजें बताई गई हैं, जिन्हें घर में रखने से बचना चाहिए। वरना घर में नकारात्मकता बढ़ती है और देवी लक्ष्मी की प्रसन्नता नहीं मिल पाती है। जानिए…

Read More

श्रीराम, सीता और लक्ष्मण से सीखें लाइफ मैनेजमेंट के खास सूत्र

श्रीराम, सीता और लक्ष्मण से सीखें लाइफ मैनेजमेंट के खास सूत्र

रामायण सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला पौराणिक ग्रंथ है। रामायण को केवल एक कथा के रूप में देखना गलत है, यह केवल किसी अवतार या कालखंड की कथा नहीं है, बल्कि यह जीवन जीने का रास्ता बताने वाला सबसे महत्वपूर्ण ग्रंथ है। रामायण में सारे रिश्तों पर लिखा गया है, हर रिश्ते की आदर्श स्थितियां, किस परिस्थिति में कैसा व्यवहार करें, विपरित परिस्थिति में कैसे व्यवहार करेंं, ऐसी सारी बातें हैं। जो आज हम अपने…

Read More

धर्म:तो इसलिए औरतों को होता है पीरियड्स और मंदिर जाने पर लगती है पाबंदी

धर्म:तो इसलिए औरतों को होता है पीरियड्स और मंदिर जाने पर लगती है पाबंदी

जब भी औरतों को पीरियड्स या मासिक धर्म की बात होती है तो उन्हें ये वरदान और अभिशाप दोनों लगता है। वरदान इसलिए की इसी से वह संसार में नए जीवन को लाती हैं और अभिशाप इसलिए क्योंकि इन दिनों में बहुत दर्द और तकलीफ होती है औऱ कई बार मन अशांत भी होता है। अक्सर महिलाएं यह सवाल करती हैं कि आखिर महिलाओं को ही यह दर्द झेलना पड़ता है। महिलाओं को मिले इस…

Read More

इन महिलाओं से कभी भी रिश्ता ना रखें, शास्त्रों में यह पाप से कम नहीं है!

इन महिलाओं से कभी भी रिश्ता ना रखें, शास्त्रों में यह पाप से कम नहीं है!

प्राचीन हिन्दू शास्त्रों में मनुष्य के लिए कुछ दिशानिर्देश दिए गए हैं, जिनका प्रयोग करके वह अपने जीवन को बेहतर बना सकता है। यदि मनुष्य उन सभी बातों को नहीं मानता है तो मृत्यु के बाद उसे बहुत तकलीफों का सामना करना पड़ता है. हिंदू धर्म में यह माना जाता है कि पवित्र पुराण, वेद और शास्त्र केवल मनुष्यों को समझाने और परमात्मा से जुड़ी घटनाओं की बात करने के लिए ही नहीं लिखा गया…

Read More

हथेली में रेखाओं ,पर्वतों की स्थिति व उनके प्रभाव

हथेली में रेखाओं ,पर्वतों की स्थिति व उनके प्रभाव

आधुनिक काल का सारा ज्ञान- विज्ञान केवल एक बात के लिए परिश्रम कर रहा है कि मनुष्य को भविष्य में सुख कैसे मिले.परन्तु भविष्य को जानने की सारी कोशिशें उनकी विफल साबित हुई है.हमें नमन करना चाहिए सृष्टी के रचयिता का जिसने भविष्य की छोटी से छोटी घटना को हमारे हाथ में टेढ़ी मेढ़ी लकीरों के माध्यम से हस्त रेखा विज्ञान के माध्यम से अंकित कर दिया है बस आवश्यकता है तो उसको पढ़ने में…

Read More

सूर्य को अर्घ्य देते समय आप भी करते हैं ये गलतियां तो नहीं मिलेगा अपेक्षित फल

सूर्य को अर्घ्य देते समय आप भी करते हैं ये गलतियां तो नहीं मिलेगा अपेक्षित फल

ज्योतिष विद्या के अनुसार जायक की कुंडली का आंकलन कर उसके जीवन के विभिन्न पहलुओं पर गौर किया जाता है। उसका आने वाला कल कैसा होगा, भविष्य में किन परेशानियों का सामना करना पड़ेगा या वर्तमान किस दिशा की ओर आगे बढ़ रहा है….. इन सभी सवालों के जवाब कुंडली के माध्यम से ढूंढ़े जा सकते हैं। जाहिर है हमारे भविष्य और वर्तमान को बनाने और बिगाड़ने का काम हमारे ग्रह ही करते हैं। कहने…

Read More
1 2 3 10